Badla Mausam

Jalte hain Tesu tehniyon par
Bichhe angaare pairon tale
Sisak abhi bhi hai geeli hawaon mein
Aur hum abhi bhi yaheen khade

Der ho chali, mausam hai badla
Chalo ab ghar bhi jaana hai
Yeh uljhe masle gesu dekh
Inko ab suljhaana hai

Aise mud ke na dekho
Ki ja na paayein nikal
Aise munh na phero
Ki khud se kehna pade- sambhal

Tera kya,tu kahaan hai atka
Yeh to mera junoon hai
Tujkho ab kaise kahoon, Kyon kahoon
Ki tujhi mein kaheen khoya mera sukoon hai

Talab teri nahin
Yeh talaash hai meri
Mera hi kucch khoya hai
Chubhte Silte bunte bigadte
Yeh bhi mera piroya hai

जलते हैं टेसू टहनियों पर
बिछे अंगारे पैरों तले
सिसक अभी भी है गीली हवाओं में
और हम भी अभी यहीं खड़े

देर हो चली मौसम है बदला
चलो अब घर भी जाना है
यह उलझे मसले गेसू देख
इनको अब सुलझाना है

ऐसे मुढ़ के न देखो
के जा न पाएं निकल
ऐसे मुंह न फेरो
के फिर न पाएं फिसल

तेरा क्या, तू कहाँ है अटका
यह तो मेरा जूनून है
तुझको अब कैसे कहूं, क्यों कहूं
कि तुझ ही में कहीं खोया मेरा सुकून है

तलब तेरी नहीं,
यह तलाश है मेरी
मेरा ही कुछ खोया है
चुभते, सिलते, बनते, बिगड़ते
यह भी मेरा पिरोया है

Advertisements