Zubaan

Teer bhi tu, tarkash bhi too, Tujh mein josh tani hui kamaan;

Us par makhmal-shaneel ki mayaan,

Baat bin baat cheer deti logon ke jahaan

Aisi hai mere sheher ki zubaan

(c)

 

 

तीर भी तू, तरकश भी तू, तुझ में जोश तानी हुई कमान,

उस पर मखमल ओ शनील की मायां,

बात बिन बात चीर देती लोगों के जहां,

ऐसी है मेरे शहर की जुबां.

#Delhi

Advertisements