Gutthiyaan aur Galiyaan

Guthiyoon mein ulajhte chale jo

Woh khanjar ki chhanak kya jaane

Galiyon mein sarakte rengte jo

Insaan-o-imaan hi na pehchaane

Is kaali geeli mitti mein

Hum tum hain kahaan se aa pahunche

Is khisakti ret mein baith-te paaon nahin

Is jagah hamaara gaaon nahin

(c)

 

गुत्थियों में उलझते चले जो

वोह खाणार की छनक क्या जाने

 

गलियों में सरकते रेंगते जो

इंसान ओ ईमान न पहचाने

 

इस काली गीली मिटटी में

हम तुम हैं कहाँ से आ पहुंचे

 

इस खिसकती रेत मैं

बैठते पाँव नहीं

इस जगह हमारा गाँव नहीं

Advertisements